Gwalior Times Live Gwalior ग्वालियर टाइम्स लाइव

मंगलवार, 15 जून 2010

ब्रजभाषा में ग्‍वाल के छन्‍द भाग - 2 (प्रस्‍तुति नवीन चतुर्वेदी )

ब्रजभाषा में ग्‍वाल के छन्‍द भाग - 2
प्रस्‍तुति नवीन चतुर्वेदी

'ग्वाल' कवि का ही एक और छंद:-
गोकुल की खोर साँकरी में आज मेरी बीर,
बानक बनायो बिधि, ताहि कौन बरनें|
कोटिन उपायन ते राधिका मिली ही धाय,... और देखें
आज मनमोहनें, निसंक अंक भरनें|
'ग्वाल' कबि एते में, जसुधा पुकारी - लाल,
बाल परी पीरी, दगा दीनी अवसर नें|
मानौ कंज-केसर के हौज बीच, बोरा बोर -
कर कें निकारी कामदेव कारीगर नें||

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *