Gwalior Times Live Gwalior ग्वालियर टाइम्स लाइव

शुक्रवार, 20 नवंबर 2015

गीत वह सुनिये या गाईये , जिसका असर ऊपर आसमां से नीचे पाताल तलक हो , शादी विवाह की बुनियाद है प्यार व विश्वास, और प्यार व विश्वास की बुनियाद है मोहब्बत , मोहब्बत करने के लिये दिमाग की नहीं अलबत्ता दिल की बहुत जरूरत होती है



फिर से ग्रहों के बदलाव का व उलटफेरी का दौर शुरू होगा, और फिर से बदलेंगीं चालें , राहें मंजिलें
गीत वह सुनिये या गाईये , जिसका असर ऊपर आसमां से नीचे पाताल तलक हो , शादी विवाह की बुनियाद है प्यार व विश्वास, और प्यार व विश्वास की बुनियाद है मोहब्बत , मोहब्बत करने के लिये दिमाग की नहीं अलबत्ता दिल की बहुत जरूरत होती है
नरेन्द्र सिंह तोमर ‘’आनन्द’’

आज के दोनों ही विषय एक दूसरे से जुदा और अलहदा हैं , मगर दोनों ही आज के दौर की निहायत जरूरत हैं । चलिये दोनों ही विषयों को आज उठाते हैं ।
ग्रहों का फेरबदल और बदलाव , साथ ही बदलेंगीं तमाम चालें
आसमानी ग्रहों के तमाम परिवर्तन हालांकि बड़े परिवर्तन तो जनवरी के महीने में और मार्च 2016 के महीने में होंगें , लेकिन हल्के व छोटे परिवर्तनों का दौर अभी नवंबर के 2015 के ही दरम्यां शुरू हो जायेगा ।
वर्तमान में ग्रहों की विचित्र स्थति यह है कि मंगल , शुक्र व राहू तीनों एक साथ एक ही राशी में चल रहे हैं यानि कन्या राशी में ।
ग्रहों की यह सूरत करीब 9 प्रकार के योगों को जन्म देती है, यह निर्भर करता है कि किसी मात्रा या अंश या ताकत कितनी है और कौन कितना बलवान या कमजोर चल रहा है ।
कीचड़ योग दरअसल यह मूल योग है, आपकी जन्मकुंडली में यदि यह तीनों साथ आ जायें तो जिस जगह बैठेंगें उस जगह को कीचड़ से भर देंगें , अब यह कीचड़ कैसी होगी , गंदी बदबूदार, काली, या कितनी सूखी , कितनी बदबू या कितनी काली या बहुत ज्यादा भारी या बहुत ज्यादा हल्की फुल्की यह निर्भर करता है आपकी जन्मकुंडली में एक साथ बैठ जाने पर , किस भाव में कितना बलवान या कमजोर होकर कोई ग्रह बैठा है ।
खैर यह योग अभी 30 नवम्बर से टूट जायेगा , चूंकि राहू इस समय कमजोर हालत में होकर महज 3 अंश पर हैं इसलिये सूरत ज्यादा घातक या नुकसानदेह नहीं है , मगर नाली तो नाली है , काली है, कीचड़ है, कन्या राशी में होकर इस समय बह रही है या गुजर रही है ।
शुक्र 30 नवंबर को राशी बदलकर तुला में यानि खुद के घर अपनी ही राशी में प्रवेश करेंगें । जबकि मंगल दिसम्बर में 23 दिसम्बर को राशी बदलेंगें और तुला राशी में प्रविष्ट होंगें । यानि कि 30 नवंबर के बाद कीचड़ पूरी तरह से सूख जायेगा , और महज काला सूखा कीचड़ या काली मिट्टी पड़ी रह जायेगी ।
कुछ वक्त से सर्प दिखाई देने के सपने जिन लोगों को आ रहे होंगें , वह या तो अब बंद हो जायेंगें या सिर्फ मरे हुये सर्प मिट्टी में गड़े हुये या उस पर छोटे मोटे बच्चा रूप में रेंगते चलते नजर आयेंगें जिन्हें महज तिनकों से मार कर मिट्टी में दबा देने का दृश्य नजर आने लगेगा । दिसंबर में ही सूर्य के उत्तरायण होते ही सर्प स्वप्न एकदम से आने बंद हो जायेंगें और अब तक जो जो भी देखा होगा वह जनवरी के बाद फरवरी 2016 से हकीकत में तब्दील होना शुरू हो जायेगा । 6 दिसंबर से बुध का धनु राशी में प्रवेश होगा , वहीं सूर्य 16 दिसंबर से धनु राशी में प्रवेश करेंगें ।
ग्रहों की बड़ी उलटफेर जनवरी में 8 जनवरी 2016 से शुरू होगी , गुरू सिंहस्थ रहकर तकरीबन राशी बदलते बदलते एकदम से मृतप्राय: से होकर  ही वक्री हो जायेंगें । और पुन: सिंह राशी में ही टिके रहेंगें , गुरू की यह वक्र गति वह भी उस वक्त जब उन्हें राशी बदलकर कन्या राशी में जाना है , एकदम से उल्टा वापस सिंह राशी में लौटना और वक्री चाल के तमाम अर्थ व महत्व होंगें ।
दूसरा बड़ा परिवर्तन 29 जनवरी 2016 से होगा जब राहू और केतु राशी बदलेंगें । राहू का प्रवेश सिंह राशी में होगा और केतु का प्रवेश कुम्भ राशी में होगा ।
तीसरा बड़ा ग्रह परिवर्तन मार्च 2016 के महीन में उस वक्त होगा जब शनि 25 मार्च 2016 को वक्री होंगें ( वर्तमान में शनि 13 नवंबर 15 से अस्त चल रहे है और 16 दिसंबर 15 तक अस्त रहकर 16 दिसंबंर को ही उदित होंगें ) उल्लेखनीय है कि 16 दिसंबर को ही सूर्य यानि शनि के पिता राशी बदलेंगें ।     
शादी की बुनियाद है प्यार व विश्वास , और प्यार व विश्वास की बुनियाद है मोहब्बत , मोहब्बत के लिये दिमाग नहीं दिल चाहिये
यह विषय सीधे सीधे हमारे पूर्ववर्ती आलेख मंत्र कुमंत्र , शब्द , स्वर व ध्वनि व कुदरत व कायनात से गुरती हर प्रकार की तरंग से जुड़ा हुआ या उसका ही एक अंग है ।
शादी विवाह या प्रेम पारस्परिक जुड़े हुये व सालग्नि‍क विषय हैं । जिन पर पृथक नजरिया पृथक्कीयकरण को , वियोग को या तलाक को या बन्य किसी विकट व अप्रिय स्थति को जन्म देता है ।
पृथक्करण, विरह , वियोग, तलाक या अन्य अप्रिय हालात के योग न केवल जन्मकुंडली में ह मौजूद रहते हैं अपितु उस वातावरण या हालातों को भी पैदा कर देते हैं जिनसे यह सब अप्रिय हालात आसानी से पैदा हो जायें ।
इन सबका असर आने वाली पीढ़ी या संतान पर भी मनोवैज्ञानिक रूप से या परिस्थतिजन्य होकर पड़ता है जिसके आने वाले दौर या आने वाले वक्त में परिणाम भीषण व भयंकर ही होते हैं । खैर फिलहाल चलिये सुनिये एक मधुर पुराना गीत ब्राडकास्ट करते हैं , उसे सुनिये , ऐसे ही मधुर गीत व संगीत मंत्र की श्रेणी में आते हैं , आजकल इस प्रकार के गीतों का आना व बनना बेशक बंद हो गया है और गीत संगीत युक्त मंत्र का स्थान शोरगुल , चीख चिल्लाहट, झल्लाहट व मानिसिक विकृतियुक्त या मानसिक विकृतियां पैदा करने वाले व सामाजिक संरचना को नष्ट भ्रष्ट करने वाले तथा कथि‍त गीत संगीत ने ले लिया है , मगर हमारी सलाह है कि न कभी इस प्रकार आसुरी व कुमंत्र युक्त गीत संगीत को सुनें और न ऐसी फिल्मों को ही देखें । वरना अंजाम तय है और परिवेश व हालात भी तदनुसार ही बन जायेंगें । फिलवक्त एक मंत्रमय मधुर गीत ब्राडकास्ट कर रहे हैं ..... यह आलेख श्रंखला जारी रहेगी .... क्रमश: अगले अंक में 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *